मिलिए भारत के ‘कराटे सुपरमैन’ जाबिर अंसारी से, मुश्किलों से लड़कर भारत को अंतराष्ट्रीय स्तर पर दिलाए मैडल और …

कोई भी जीत हासिल करने से पहले ना जाने कितने रास्तो से गुजरना पड़ता है। दुनिया मे बहुत से लोगो की ऐसी ही कहानियां है जो अपना नसीब परेशानी में उठाकर बनाते है। एक ऐसी ही कहानी हम आपको बताने जा रहे है। जिनका नाम जाबिर अंसारी है। बिहार के एक छोटे से गांव झाझा के रहने वाले 22 साल के कराटे खिलाड़ी जाबिर अंसारी उस छोटे से गांव में अपनी सफलता की कहानी लिख रहे थे।

जाबिर अंसारी के घर की आर्थिक स्थिति ठीक नही होने के बावजूद उन्होंने हार नही मारी। उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर 2 मेडल्स जीते। राज्य स्तर पर 5 गोल्ड मेडल्स जीतकर अपने घर, देश का नाम रोशन किया है। अपनी पहचान एक होनहार कराटे खिलाड़ी के रूप में बना डाली। जाबिर ने indian times की विशेष रिपोर्ट में अपनी कहानी बताते हुए कहा की मेरा सामना 2015 में कराटे से हुआ।

जब मैने आत्मरक्षा के लिए क्लास में भाग लिया और इसमें मुझे काफी अच्छा लगा। मैंने दिल लगाकर, मेहनत, लगन , ख़ासी अच्छी तरह से प्रशिक्षण लेना शुरू किया। उनके ट्रेनर का कहना सही था कि प्रशिक्षण के पहले ही साल में जाबिर अंसारी राज्य स्तरीय कराटे प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर राज्य स्तर के चेम्पियन बन गए। ये जीत उनके खेल कैरियर के लिए एक चिंगारी की तरह थी। जिसने उन्हें आगे बढ़ने का हौसला दिया।

2017 में जाबिर ने राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडल जीता। इसके बाद उनको श्रीलंका में दक्षिण एशियाई कराटे चैम्पियनशिप में भाग लेने का अवसर मिला। इन्होंने पहली बार ही खेला। उसमे इन्होंने देश के लिए सिल्वर मेडल जीतकर नाम रोशन किया। जाबिर ने कहा कि मैं बहुत उत्साहित था। अपने देश के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करना चाहता था। आपको बता दे, बिहार सरकार ने उन्हें 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस मौके पर आमंत्रित किया था। उन्हें बेहतरीन खेल के कारण खेल पुरुस्कार और 50,000/- का चेक देकर सम्मानित किया था।

आपको बता दे, जाबिर सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते है। वह अक्सर अपनी परेशानियों को सोशल प्लेटफार्म पर रखते हुए दिखाई देते है। जाबिर जैसे मेहनत करने वाले खिलाड़ियों को लेकर हम सभी को एक्टिव रहने की जरुरत है। यह देश और समाज के दोनों के लिए बहुत जरुरी है। जाबिर की तरह यदि आप अपने आस पास टेलेंटेड बच्चे देखें तो उन्हें आगे बढ़ाने के लिए जितनी मदद हो करें।

Leave a Comment